चर्चा

Saturday, January 19, 2019

आईजी जम्मू एमके सिन्हा पुलिस पब्लिक के रिश्ते को मजबूत किया जाए हर थाने में लोगों के साथ प्यारा व्यवहार किया जाए महिला कर्मचारियों की तैनाती बढाई जाएगी जम्मू आईजी जम्मू एमके सिन्हा ने जम्मू संभाग में बतौर आईजी चार्ज लेने के बाद कई तरह के बदलाव किए है। जिसमें दस जिलों के एसएसपी को साफ कहा गया है कि वह अपने जिलों के थानों में पुलिस तथा पब्लिक के बीच में रिश्ते को मजबूत करे। जिससे की लोगों को थाने में आते हुए किसी प्रकार का डर ना हो। इतना ही नहीं उन्होंने पुलिस के थानेदारों को कहा है कि वह अपने अपने इलाकों में पब्लिक बैठके करे। जिससे की पुलिस को जनता के बीच में लाया जा सके। इसके अलावा हर थाने में महिला कर्मचारियों की गिनती को बढाया जाएगा। जिससे की अगर कोई महिला थाने में किसी प्रकार की शिकायत लेकर आती है। तो उसे घर जैया माहौल मिल सके। उसे अपनी शिकायत देने में कोई परेशानी महसूस ना हो सके। इसके अलावा थानों में किसी प्रकार की रिश्वत की कोई शिकायत नहीं आनी चाहिए। जिले के एसएसपी को कहा गया है कि वह हर माह आईजी आफिस में जिले के कामकाज की रिपोर्ट दे। जिससे की पता लग सके कि क्राइम रेट को कम करने के लिए क्या प्रयास किया जा रहे है। सिन्हा 1996 बैच के आईपीएस अफसर है। वह राज्य में ट्रेनिंग के बाद बतौर एसडीपीओ सांबा तैनात हुए। उनकी पहली पोस्टिंग सांबा में थी। उसके बाद वह एसएसपी बार्डर जम्मू, एसएसपी राजौरी, विजीलेंस, एसएसपी कठुआ, एआईजी ट्रेनिंग पीएचक्यू तैनात हुए। उसके बाद वह डेपोटेशन लेकर चले गए। दिल्ली में वह केविनेट सचिवालय में तैनात रहे। लंबे समय त तैनात रहते हुए उन्हें प्रमोशन मिली और वह डीआईजी बन गए। उसके बाद वापस राज्य में आए। यहा पर वह डीआईजी डोडा, किश्तवाड, रामवन तैनात हुए। उसके बाद राजौरी पुंछ के डीआईजी लगे। बाद में फिर से डेपोटेशन लेकर दिल्ली चले गए। दिल्ली में वह सीवीआई में बतौर ज्वाइंट डायरेक्टर एंटी क्रपशन जोन में तैनत रहे। लंबा समय तैनात रहते हुए उन्हें प्रमोशन मिली और वह आईजी बने। उसके बाद वापसी राज्य में हुई। यहां वापस आते ही उन्हें आईजी जम्मू लगा दिया गया। अपने काम के लिए जाने जाते है सिन्हा इसलिए उन्हें आते ही संभाग की सबसे बडी जगह पर लगा दिया गया है। वह चीजों को मैनेज करते है। करीब एक माह से वह कामकाज को संभाल रहे है। इस दौरान वह कई जिलों में खुद जाकर काम को देख चुके है। जिससे की जवानों का हौंसला बढाया जा सके। उन्होंने संभाग के कर्मचारियों को साफ तौर पर कहा हुआ है कि अगर किसी को कोई भी विभागीय परेशानी हो तो वह सीधा उनके कार्यालय में अइा सकता है। इतना ही नहीं सभी थानेदारों को अपने कामकाज की समीक्षा देने के लिए कहा जाता है। जिससे की हर थाना स्तर पर पुलिस के काम को बेहतर बनाया जा सके।

आईजी जम्मू एमके सिन्हा पुलिस पब्लिक के रिश्ते को मजबूत किया जाए हर थाने में लोगों के साथ प्यारा व्यवहार किया जाए महिला कर्मचारियों की तैनाती बढाई जाएगी जम्मू आईजी जम्मू एमके सिन्हा ने जम्मू संभाग में बतौर आईजी चार्ज लेने के बाद कई तरह के बदलाव किए है। जिसमें दस जिलों के एसएसपी को साफ कहा गया है कि वह अपने जिलों के थानों में पुलिस तथा पब्लिक के बीच में रिश्ते को मजबूत करे। जिससे की लोगों को थाने में आते हुए किसी प्रकार का डर ना हो। इतना ही नहीं उन्होंने पुलिस के थानेदारों को कहा है कि वह अपने अपने इलाकों में पब्लिक बैठके करे। जिससे की पुलिस को जनता के बीच में लाया जा सके। इसके अलावा हर थाने में महिला कर्मचारियों की गिनती को बढाया जाएगा। जिससे की अगर कोई महिला थाने में किसी प्रकार की शिकायत लेकर आती है। तो उसे घर जैया माहौल मिल सके। उसे अपनी शिकायत देने में कोई परेशानी महसूस ना हो सके। इसके अलावा थानों में किसी प्रकार की रिश्वत की कोई शिकायत नहीं आनी चाहिए। जिले के एसएसपी को कहा गया है कि वह हर माह आईजी आफिस में जिले के कामकाज की रिपोर्ट दे। जिससे की पता लग सके कि क्राइम रेट को कम करने के लिए क्या प्रयास किया जा रहे है। सिन्हा 1996 बैच के आईपीएस अफसर है। वह राज्य में ट्रेनिंग के बाद बतौर एसडीपीओ सांबा तैनात हुए। उनकी पहली पोस्टिंग सांबा में थी। उसके बाद वह एसएसपी बार्डर जम्मू, एसएसपी राजौरी, विजीलेंस, एसएसपी कठुआ, एआईजी ट्रेनिंग पीएचक्यू तैनात हुए। उसके बाद वह डेपोटेशन लेकर चले गए। दिल्ली में वह केविनेट सचिवालय में तैनात रहे। लंबे समय त तैनात रहते हुए उन्हें प्रमोशन मिली और वह डीआईजी बन गए। उसके बाद वापस राज्य में आए। यहा पर वह डीआईजी डोडा, किश्तवाड, रामवन तैनात हुए। उसके बाद राजौरी पुंछ के डीआईजी लगे। बाद में फिर से डेपोटेशन लेकर दिल्ली चले गए। दिल्ली में वह सीवीआई में बतौर ज्वाइंट डायरेक्टर एंटी क्रपशन जोन में तैनत रहे। लंबा समय तैनात रहते हुए उन्हें प्रमोशन मिली और वह आईजी बने। उसके बाद वापसी राज्य में हुई। यहां वापस आते ही उन्हें आईजी जम्मू लगा दिया गया। अपने काम के लिए जाने जाते है सिन्हा इसलिए उन्हें आते ही संभाग की सबसे बडी जगह पर लगा दिया गया है। वह चीजों को मैनेज करते है। करीब एक माह से वह कामकाज को संभाल रहे है। इस दौरान वह कई जिलों में खुद जाकर काम को देख चुके है। जिससे की जवानों का हौंसला बढाया जा सके। उन्होंने संभाग के कर्मचारियों को साफ तौर पर कहा हुआ है कि अगर किसी को कोई भी विभागीय परेशानी हो तो वह सीधा उनके कार्यालय में अइा सकता है। इतना ही नहीं सभी थानेदारों को अपने कामकाज की समीक्षा देने के लिए कहा जाता है। जिससे की हर थाना स्तर पर पुलिस के काम को बेहतर बनाया जा सके।

Photo Gallery

Cricket Today

Weather Today